चक्रवृद्धि ब्याज के सुत्र

चक्रवृद्धि ब्याज के सुत्र

चक्रवृद्धि ब्याज के सुत्र –

1. यदि ब्याज की दर अर्ध्दवार्षिक हो तो मिश्रधन ज्ञात करना।

A = P(1+R/2⨯ 0.01)²ⁿ

अर्थात समय को दोगुना और दर को आधा लेते हैं।

2. जब ब्याज की दर तिमाही हो तो मिश्रधन ज्ञात करना।

A = P ( 1+R/4 x 0.01)⁴ⁿ

अर्थात समय को चार गुना और दर को एक चौथाई लेते हैं।

3. जब ब्याज की दर लगातार वर्षा मे भिन्न भिन्न हो तो मिश्रधन ज्ञात करना।

A = P (1+R₁/100)(1+R₂/100)(1+R₃/100) ….

जहाँ R₁% ,R₂%, R₃% लगातार वर्षों की दरें हैं।

4. यदि किसी शहर की जनसंख्या में प्रतिवर्ष R% की वृध्दि हो तो

(A). n वर्ष बाद की जनसंख्या = वर्तमान जनसंख्या
(1+R/100)ⁿ

(B). वर्तमान जनसंख्या = n वर्ष पहले की जनसंख्या
(1-R/100)ⁿ

समान्तर माध्य

बहुलक किसे कहते हैं ?

सांख्यिकीय माध्य

वर्ग समीकरण का सूत्र

वृत्त का क्षेत्रफल

घनाभ किसे कहते हैं.?

त्रिभुजों के क्षेत्रफल का सूत्र

श्री धराचार्य विधि

प्राकृत पूर्ण एवं पूर्णाक संख्याएं

घातांक के नियम एवं लघुगणक (Law of Indices and Logarithm)

घातांक के नियम

1· aˣ ⨯aⁿ = aˣ⁺ⁿ

2. aˣ /aⁿ = aˣ⁻ⁿ

3. (aˣ)ⁿ  = aˣⁿ

4. aº= 1

5. (ab)ⁿ = aⁿ x bⁿ

6.  a⁻ⁿ = 1/aⁿ

7. aⁿ = 1/a⁻ⁿ

8. (a/b)ⁿ = aⁿ / bⁿ

लघुगणक का नियम

1. logₐ(m⨯n) = logₐm +log ₐn

2. logₐ(m/n) =logₐm – logₐn

3. logₐmⁿ = n logₐm

4. log 1 =0

5. log 10 = 1

An example 2³ = 8     (aˣ = n)

log ₂ 8 = 3

6.  logₐ n = x

यह सामान्य लघुगणक के रुप मे नियम है।

x²+1/x² से संबंधित सुत्र इससे संबंधित निम्न सुत्र हैं –

1. (x² -1/x²) =(x+1/x)² -2

2. (x²-1/x²) = (x- 1/x)² +2

3.(x³ +1/x³) =(x+1/x)³ -3(x+1/x)

4. (x⁴ +1/x⁴) = (x+1/x )⁴ -4(x-1/x)² +2

इसका उपयोग ज्यादातर करणी को हल करने के लिए किया जाता हैं।

educationallof
Author: educationallof

FacebookTwitterWhatsAppTelegramPinterestEmailLinkedInShare

One thought on “चक्रवृद्धि ब्याज के सुत्र

  1. Fantastic piece! The article is both informative and interesting. Adding more visuals in your future content could be a great way to elevate the reader experience.

Comments are closed.

FacebookTwitterWhatsAppTelegramPinterestEmailLinkedInShare
error: Content is protected !!
Exit mobile version